You are here

कंचन विश्वकर्मा ने जीता मिस इण्डिया—2016 का खिताब

इलाहाबाद। मोतीलाल नेहरू राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान (एमएनआईटी) की जैव प्रौद्योगिकी विभाग की शोधरत छात्रा कंचन विश्वकर्मा ने 'डेलीवुड मिस इंडिया-2016' का खिताब जीत कर देश में अपना मान बढ़ाने के साथ ही विश्वकर्मा समाज का भी मान बढ़ाया है। खिताब जीतकर इलाहाबाद आई कंचन विश्वकर्मा ने सभी को धन्यवाद दिया और जीत का श्रेय अपने पूरे परिवार को दिया। कंचन ने मिस इण्डिया का खिताब जीतने के साथ ही आगे बढ़ने का मौका भी पा लिया है। जानकारी के अनुसार उन्हें 'आंखें-2' फिल्म में काम करने का ऑफर मिला है, जिसमें अमिताभ बच्चन लीड रोल में हैं। इस प्रतियोगिता में पूरे देश से 41 लड़कियों ने भाग लिया था जिसमें कंचन विश्वकर्मा ने पहला स्थान प्राप्त किया।
कंचन विश्वकर्मा कहती हैं कि वह सिर्फ यहीं तक सीमित नहीं रहेंगी। जब इस कान्टेस्ट में आई हैं तो मिस यूनिवर्स में भी भाग लेंगी। इसके साथ ही वह टीवी सीरियल्स में भी काम करना चाहती हैं। वह अभी पीएचडी कर रही हैं। अभी 2015 में ही पीएचडी बायोटेक में उन्होंने एडमिशन लिया। कंचन ने साल 2013 में इलाहाबाद के मोती लाल नेहरू इंजीनियरिंग कॉलेज से एमटेक बायोटेक किया।
कंचन के पिता नेमचंद्र विश्वकर्मा मूल रूप से उत्तर प्रदेश के कौशाम्बी जिले के रहने वाले हैं जो बाद में दिल्ली चले गए। नेमचंद्र को चण्डीगढ़ में जॉब मिला तो वह पूरे परिवार के साथ चंडीगढ़ चले गये और वहीं रहने लगे।
कंचन विश्वकर्मा का इंजीनियरिंग से मिस इंडिया तक का सफर—
कंचन की मुलाकात साल 2014 में मिस इंडिया कॉन्टेस्ट की हेड नतासा ग्रोवर से हुई। उनकी सलाह पर ही कंचन ने मिस इंडिया बनने की तैयारी शुरू की। एक साल की तैयारी के बाद उन्हें डेली वुड मिस इंडिया—2016 का टाइटल मिला। वह अपनी इस जीत का श्रेय पूरे परिवार को तो दे ही रही हैं, पर सबसे ज्यादा श्रेय अपने भाई दीपक को देती हैं। उन्हें भाई का बहुत सपोर्ट मिला है। एक दौर में आर्थिक तंगी भी आई, लेकिन भाई ने उसे संभाल लिया।
कंचन की सफलता के लिये संस्थान के निदेशक प्रो0 पी0 चक्रवर्ती ने कहा है कि हमारे संस्थान में प्रतिभाओं की कमी नहीं है। उन्होंने कंचन को शुभकामना भी दिया है। इसके अलावा संस्थान के अन्य लोगों ने भी कंचन की सफलता पर शुभकामनाएं दिया है।
'विश्वकर्मा किरण' पत्रिका परिवार की तरफ से भी कंचन विश्वकर्मा को बहुत—बहुत शुभकामनाएं।